ऑपरेशन ब्लूस्टार और स्वर्ण मंदिर- Operation Blue Star and Golden Temple

ऑपरेशन ब्लूस्टार और स्वर्ण मंदिर- Operation Blue Star and Golden Temple

 ऑपरेशन ब्लूस्टार और स्वर्ण मंदिर -

ऑपरेशन ब्लू स्टार भारतीय सेना द्वारा चलाया गया एक ऑपरेशन था, जो की  खालिस्तान समर्थक जरनैल सिंह भिंडरावाले और उसके समर्थको को हरमंदिर साहिब से निकालने के लिए चलाया गया।  यह 03 जून से 08 जून 1984 तक चला जिसमे भारतीय सेना की जीत हुई परन्तु यह तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी की राजनैतिक हार थी। 

Golden temple
स्वर्ण मंदिर 

खालिस्तान की मांग-

भारत तथा पाकिस्तान के अलग होने पर पंजाब प्रान्त का एक बहुत बड़ा हिस्सा पाकिस्तान के पास चला गया था, और इसकी राजधानी जो की लाहौर में थी वहां से चंडीगढ़  कर दी गयी। उस समय के पंजाब प्रान्त में आज के हरियाणा तथा हिमांचल भी आते थे और वहां पर हिंदी भाषी लोगो की संख्या ज्यादा हो गयी थी।  70 के दशक में पंजाब की अकाली दल की पंजाब संबंधी मांगे बढ़ने लगी, जिससे राजनैतिक उथल पुथल होने लगी, 1973 में आनंदपुरा साहिब प्रस्ताव पारित किया गया जिसके अंतर्गत विदेश मामलो, मुद्रा, रक्षा तथा संचार को छोड़ हर दायित्व पंजाब को सौंप उसे एक स्वायत्त राज के रूप में स्वीकारा जाए। चंडीगढ़ को सिर्फ पंजाब की राजधानी बनायी जाए तथा हर पंजाबी बोलने वाले क्षेत्रों को पंजाब में मिलाया जाए, पंजाब से निकलने वाली नदियों पर पंजाब का अधिकार हो इत्यादि।  पंजाब दो तबको में बंटा हुआ था एक अकाली दल के समर्थक और दूसरे निरंकारी तथा 13 अप्रैल को अकाली कार्यकर्ताओ और निरंकारियों बीच हुई एक झड़प में 13 अकाली कार्यकर्त्ता मारे गए, और इसी के कारण हुए रोष दिवस में जरनैल सिंह भिंडरवाला ने बढ़ चढ़ कर हिस्स्सा लिया। और उसके समर्थक इसे पंजाब में चरमपंथ की शुरवात के तौर पर देखते है। माना जाता है कि जरनैल सिंह को कांग्रेस ने अकाली दल के प्रभाव को कम करने के लिए समर्थन दिया था। परन्तु यही पेंच कांग्रेस को उलटी पड़ी, जरनैल सिंह अकाली दल से जा मिला तथा केंद्र के खिलाफ बोलने लगा उसने अकाली दल के ढीले ढाले रवैये को हटा कर सख्त रुख अपना लिया। लगातार सक्रिय रहने से उसे एक बड़े तबके का समर्थन मिलने लगा। 


पंजाब केसरी के संपादक लाला जगत नारायण की 13 सितम्बर 1981को हत्या कर दी गयी क्योकि यह उनके विरुद्ध कई लेख लिख चुके थे और जिस कारण जरनैल सिंह को डर था की पंजाब को हाथ से न खो बैठे। और इसके बाद उनको जनसमर्थन मिलता देख अकाली दल के नेता जरनैल सिंह के समर्थन में आये थे। हिंसक घटनाये बड़ी तेजी से बढ़ने लगी थी, वहां के तत्कालीन मुख्यमंत्री दरबारा सिंह तक को हमला झेलना पड़ा। 1983 में पंजाब पुलिस के उपमहानिरीक्षक की स्वर्ण मंदिर के सीढ़ियों में गोली मारकर हत्या कर दी। पंजाब रोडबेज की एक बस में घुसकर कई हिन्दुओ को गोली मार दी गयी।  इन घटनाओ के बाद पंजाब में कांग्रेस सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया। जरनैल सिंह द्वारा हथियारों को स्वर्ण मंदिर में इकट्ठा किया जा रहा था, यह भी माना जाता है कि जरनैल सिंह को पाकिस्तान का समर्थन भी था और वह देश के लिए एक बहुत बड़ा संकट बन चुका था। और इसी संकट को ख़त्म करने के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री इंद्रा गाँधी ने ऑपरेशन ब्लू स्टार लांच किया। 

ऑपरेशन ब्लू स्टार-

तीन जून को सेना हरमंदिर साहिब (स्वर्ण मंदिर) में पहुंच गयी पूरे शहर में कर्फ्यू लगा दिया। चार जून को सेना ने स्वर्ण मंदिर के अंदर बैठे संत जरनैल सिंह और उसके साथियो को बाहर निकालने के लिए गोलिया चलायी परन्तु अंदर बैठे जरनैल सिंह व उसके साथियो(चरमपंथियों) ने हथियारों का जमावड़ा इकठ्ठा किया हुआ था। चरमपंथियों से मिले मुहतोड़ जवाब के उत्तर में बख्तर बंद गाड़िया और टैंको का इस्तेमाल करने का निर्णय लिया गया। और 05 जून की रात को चरमपंथियों और सेना के बीच असली भिड़ंत हुई, भीषण खून खराबा हुआ अकाल तख़्त पूरी तरह तबाह हो गया। अकाल तख़्त धार्मिक दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण था, स्वर्ण मंदिर पर भी गोलिया चलाई गयी। यह पहली बार था जब वहां तीन दिन तक पाठ ना हो पायी। और इस ऑपरेशन में लगभग 576 लोगो ने अपनी जान गवानी पड़ी जिसमे 83 आर्मी के जवान थे। 

ऑपरेशन ब्लू स्टार के परिणाम-

 सेना ने चरमपंथियों को मार कर ऑपरेशन ब्लू स्टार को सफल किया। स्वर्ण मंदिर में हमला होना सिख समुदाय ने धर्म पर हमला होना माना, कई नेताओ ने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया और कई सिख समुदाय के लोगो ने अपने सम्मान लौटा दिए। 
भले ही यह सेना की जीत हो लेकिन यह एक राजनैतिक हार थी। सिख समुदाय और कांग्रेस के बीच दरार बहुत बढ़ गयी। और इसी दरार के कारण प्रधानमंत्री इंद्रा गाँधी के दो सिख सुरक्षा कर्मियों द्वारा 31 अक्टूबर 1984 को गोलियों से छलनी कर उनकी हत्या कर दी गयी।  

0 Response to "ऑपरेशन ब्लूस्टार और स्वर्ण मंदिर- Operation Blue Star and Golden Temple"

टिप्पणी पोस्ट करें

if you have any doubt or suggestions please let me know.

Advertise in articles 1

advertising articles 2