पूंजीवाद, साम्यवाद तथा तानाशाही

पूंजीवाद, साम्यवाद तथा तानाशाही

 पूंजीवाद, साम्यवाद तथा तानाशाही 

प्रश्न:  पूंजीवाद (Capitalism) क्या है? 

उत्तर: मुख्य रूप से पूंजीवाद एक आर्थिक प्रणाली है जो कि उत्पादन का एक तरीका है जिसमें व्यापार, उद्योग और उत्पादन के साधन मुख्य रूप से निजी स्वामित्व (गैर सरकारी) में हैं। निजी फर्म और उद्द्योगपति आमतौर पर लाभ कमाने के लिए काम करते हैं, लेकिन सामाजिक तौर पर यह भी देखा जाता है कि कई गैर-लाभकारी संगठनों के रूप में भी काम करते  हैं। पूंजीवाद की मुख्य विशेषताओं में निजी संपत्ति, पूंजी संचय, मजदूरी और कुछ स्थितियों में प्रतिस्पर्धी बाजार शामिल हैं। पूंजीवादी अर्थव्यवस्था में किसी भी वस्तु का दाम तय करना पूर्णतया स्वतंत्र होता है जो कि उसके स्वामी द्वारा किया जाता है तथा  जिसमे सरकार हस्तक्षेप नहीं कर सकती। 

पूंजीवाद
पूंजीवाद 


प्रश्न:  पूंजीवाद(Capitalism)  के रूप कौन कौन से है? 

उत्तर: पूंजीवाद को मात्र निजी स्वामित्व के तौर पर देखना पूर्णतया गलत होगा। बाजार की चुनौतियां(प्रतिस्पर्धा) , हस्तक्षेप और विनियमन की भूमिका, और पूंजीवाद के विभिन्न मॉडलों में राज्य के स्वामित्व का दायरा अलग-अलग है। अर्थशास्त्रियों, राजनीतिक अर्थशास्त्रियों और इतिहासकारों ने विभिन्न दृष्टिकोणों को अपनाया है और विभिन्न रूपों को मान्यता दी है जो व्यवहार में हैं। इनमें

  • अहस्तक्षेप नीति या मुक्त बाज़ार पूंजीवाद,
  • कल्याण पूँजीवाद, 
  • विकास के लिए अंतरंग पूँजीवाद,
  • निगमिततावाद, 
  • राज्य पूंजीवाद।

 प्रत्येक मॉडल ने मुक्त बाजारों, सार्वजनिक स्वामित्व, नि: शुल्क प्रतिस्पर्धा में बाधाएं, और राज्य द्वारा स्वीकृत सामाजिक नीतियों को शामिल करने पर निर्भरता की अलग अलग सीमा को नियोजित किया है।


 प्रश्न:  तानाशाही(Dictatorship) से आप क्या समझते हैं?

उत्तर: तानाशाही, सरकार का एक प्रकार है जहां राजनीतिक अधिकार मात्र एक व्यक्ति या राजनीतिक इकाई के द्वारा नियंत्रित किया जाता है, और विभिन्न तरीको से क्रियान्वय किया जाता है जो  यह सुनिश्चित करता है कि इकाई की शक्ति मजबूत बनी रहे। अगर दूसरे शब्दों में कहा जाए तो तानाशाही एक प्रकार का अधिनायकवाद है, जिसमें राजनेता लोगों के सार्वजनिक और निजी व्यवहार के लगभग हर पहलू को नियंत्रित करते हैं। तानाशाही और अधिनायकवाद आम तौर पर राजनीतिक शासन को वैकल्पिक शासन प्रणालियों से संबंधित विरोधियों के प्रभाव को कम करने के लिए नियोजित करते हैं, जैसा कि किसी भी राष्ट्रवाद की प्रकृति है शासन प्रणाली। 19 वीं और 20 वीं शताब्दी में, पारंपरिक राजशाही धीरे-धीरे गायब हो गई। तानाशाही और संवैधानिक लोकतंत्र सरकार के दो प्रमुख रूपों के रूप में विश्वभर में उभरा।


प्रश्न: साम्यवाद (Communism) क्या  हैं? 

उत्तर: राजनीतिक और सामाजिक विज्ञानों में, साम्यवाद (लैटिन भाषा से  कम्युनिस - कॉमन, यूनिवर्सल) एक सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक विचारधारा और आंदोलन है जिसका अंतिम लक्ष्य कम्युनिस्ट समाज की स्थापना करना है, जो एक सामाजिक आर्थिक नीति है जो आम स्वामित्व पर आधारित है जिसमें  उत्पादन के साधन, सामाजिक वर्गों, धन और राज्य की अनुपस्थिति आदि का समावेश है।

साम्यवाद विभिन्न विचारधाराओं को बल देता है जैसे कि मार्क्सवाद, अराजकतावादी साम्यवाद  से संबंधित राजनीतिक विचारधारा। ये सभी आम विश्लेषण करते हैं कि समाज का वर्तमान क्रम अपनी आर्थिक प्रणाली, पूंजीवाद से उपजा है। इस प्रणाली में शासक वर्ग और श्रमिक वर्ग दो प्रमुख सामाजिक वर्ग हैं। 

0 Response to "पूंजीवाद, साम्यवाद तथा तानाशाही "

टिप्पणी पोस्ट करें

if you have any doubt or suggestions please let me know.

Advertise in articles 1

advertising articles 2